मंगलवार, 22 जुलाई 2008

रेडियो सबरंग -एक अभिनव प्रयोग

पिछले कई वर्षो से नियमित प्रसारित होने वाला 'रेडियो सबरंग' वैश्विक समुदाय को एकजुट करने का एक सराहनीय और अनूठा प्रयाश है.यह अनेकता मे एकता का प्रतिक है।

'रेडियो सबरंग' डेनमार्क (निदेरलंद ) से संचालित होने वाला हिन्दी साहित्य और भाषा का एक ऐसा रेडियो वेब है जिसने अपनी सार्थक और प्रासंगिक सामग्री के कारन हिन्दी भाषा प्रेमियों के बिच पुरी दुनिया मे अपनी अलग पहचान बनाई है ।

'रेडियो सबरंग' मे श्रोताओ के लिए 'सुर संगीत ' , 'कलाम शायर ' ,सुनो कहानी ' , तथा ' भूले बिसरे गीत ' जैसे कालम को बेहद रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है ।

'सुर संगीत' मे श्रोता सुरीले गीतों तथा कविताओ का आनद ले सकते है .

बुधवार, 26 मार्च 2008

सोमवार, 25 फ़रवरी 2008

साहित्य में आने से पहले मे माधव नागदा( एक साहित्यकार) से मिला था जोकि हिन्दी साहित्य मे अपनी रचनाशील कहानियो की वजह से जाने जाते है .मै कई दिनों से उनको केन्द्र मै रखकर एक लघुकथा लिखना चाहता था । अब मेरा वो सपना सच होने वाला है.जल्द ही आप सब उस संघरशील व्यक्तित्व के बारे मै जान पाए गे .
चंद्रपाल सिंह.

रविवार, 17 फ़रवरी 2008

लघुकथा - जानवर

बेजू ठाकुर के घर बढे लड़के के घर लड़की ने जन्म लिया तो ठाकुर-ठकुराईन का पोर -पोर खिल उठा .बढ़ी मांग मंगत के बाद घर के आँगन मे फूल खिला था.साथ साथ मंगली बकरी भी बिया गई .कूदता- फंदता घोलू भी घर आंगन मे जल्दी ही हिल मिल गया.लड़की की मा को बीमार थी जो स्तन मे दूध नही उतर ता था .बुढी- ठकूरईन कहती -'मंगली का एक स्तन छोरी और दूसरा बकरा पिएगा .बकरी का दूध मा के जैसा होता है '.और फिर छोरी और बकरा पालने लगे .जभी छोरी रोती तो मंगली का दूध पिला देती ।

तभी गजब हुआ ।

लड़की को न जाने कोनसी बीमार ने घेर लिया जो वह मरने जैसी हो गई .घोलू अब खुसी से कूदता फंदता नही बल्कि उदास होकर मंगली के स्तन के निचे चला जाता .इधर ठाकुर ने खूब देवी देवता , भोपा किया .पेर एक न सधा.अंत मे बढे देवरे पर हांक लगाई.भोपे ने हांक लगाई की बकरा चडेगा .डाकन की मार है .बेजू को बाहर जाने की जरुरत नही थी .घर मे जो था बकरा-घोलू .घोलू रविवार को देवरे ले जाया गया .आदेश लेकर बेजू ने देवरे मे सिर टेका और नंगी तलवार घोलू के सर रख दी .'खाचाक' से घोलू का सर अलग हो गया .इधर लड़की ने लम्बी बीमारी का साथ दे हमेशा -हमेशा के लिए अपनी आँखे मूंद ली .मंगली अभी बी दुख से मिमिया रही है .